लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को झटका; विधायक आशा पटेल ने दिया इस्तीफा

SHARE WITH LOVE
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कांग्रेस की दिलचस्पी लोगों को जाति-धर्म के नाम पर लड़ाने की राहुल का नेतृत्व विफल, मोदी की प्रशंसा की

अहमदाबाद. लोकसभा चुनाव की आहट शुरू हो गई है, ऐसे में गुजरात कांग्रेस को शनिवार को एक जबर्दस्त झटका लगा। ऊंझा सीट से कांग्रेस की विधायक आशा पटेल ने आज कांग्रेस की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। अपने इस्तीफ में उन्होंने लिखा है कि कांग्रेसाध्यक्ष राहुल गांधी का नेतृत्व विफल साबित हुआ है। इधर पीएम नरेंद्र मोदी की प्रशंसा करते हुए कहा है कि उन्होंने सवर्णों को 10% आरक्षण देकर बहुत बड़ा काम किया है।

राहुल का नेेतृत्व विफल
कांग्रेस को भेजे अपने इस्तीफे में आशा पटेल ने लिखा है कि पिछले एक साल से उसने प्रदेश और राष्ट्रीय स्तर पर बार-बार शिकायत के बाद भी संगठन ने इस दिशा में कोई प्रयास नहीं किया। चुने गए प्रत्याशियों और संगठन के बीच तालमेल नहीं है। राहुल का नेतृत्व विफल साबित हुआ है। प्रजा की प्रश्नों को हल करने में वे नाकामयाब हुए हैं।


पार्टी की तरफ से कोई सहयाेग नहीं मिलता
हम अपनी कांटेंसी में नागरिकों की समस्याओं के लिए लगातार लड़ते रहते हैं, इस दौरान हमें पार्टी की तरफ से किसी भी तरह का सहयोग नहीं मिलता। हाल ही में पीएम नरेंद्र मोदी ने सवर्णों को दस प्रतिशत आरक्षण देने की घोषणा की, वही कांग्रेस की दिलचस्पी जाति-धर्म के नाम पर लड़ाने की रही है। इन हालात में कांग्रेस का विधायक होकर काम करना मुश्किल हो गया है। मैं कांग्रेस के सभी पदों से इस्तीफा दे रही हूं। कांग्रेस विधायक के रूप में मैं अपने मतदाताओं के साथ न्याय नहीं कर पा रही हूं। इसलिए कांग्रेस से नाता तोड़ रही हूं।


भाजपा लालच देकर हमारे नेताओं को तोड़ रही है-अमित चावड़ा
आशा पटेल के इस्तीफे के बारे में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अमित चावड़ा ने कहा कि कल तक उन्हें कांग्रेस से कोई परेशानी नहीं थी। अचानक आज ही उन्होंने कांग्रेस सेे नाता तोड़ लिया। भाजपा हमारे नेताओं को लालच देकर उन्हें तोड़ रही है। आशा पटेल ने अपने मतदाताओं को विश्वास में लिए बिना ही इस्तीफा दे दिया है। इस तरह से उन्होंने मतदाताओं के साथ विश्वासघात किया है।


कौन है आशा पटेल?
दस वर्ष पहले ही राजनीति में सक्रिय हुई आशा पटेल ने 2012 में ऊंझा सीट से भाजपा के खिलाफ हार गई थी। परंतु 2017 में नारायण लल्लू पटेल को हराकर उसने जीत हासिल की। उल्लेखनीय है कि ऊंझा सीट में  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गांव वडनगर भी आता है।


SHARE WITH LOVE
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *